Ankhen meree taras gaee…..ऑंखें मेरी तरस गई हैं……

sad-boy-680x350

Ankhen meree taras gaee hain, soorat dekhane ko yaar kee |
ab to soorat dikha ja apanee, ghadiyaan na badha intazaar kee ||
tumako ham chaahate hain itana, koee thaah nahin pyaar kee |
phir bhee tumako nahin hai paravaah, bilakul apane yaar kee ||
ab to soorat dikha ja apanee, ghadiyaan na badha intazaar kee ||

bin tere kya haalat huee aake dekhale yaar kee |
saaree ghadiyaan toot gaee hain, ab tere intazaar kee ||
hai tamanna ab to meree, bas tere deedaar kee |
ab to soorat dikha ja apanee, ghadiyaan na badha intazaar kee ||

nahin hai mujhako apanee tamanna, aur nahin sansaar kee |
maut se pahale soorat mil jaaye, dekhane ko yaar kee |
kaheen saansen meree tham na jaaye, dekhakar ghadee intazaar kee
ab to soorat dikha ja apanee, ghadiyaan na badha intazaar kee ||

ऑंखें मेरी तरस गई हैं, सूरत देखने को यार की |
अब तो सूरत दिखा जा अपनी, घड़ियाँ न बढा इंतज़ार की ||
तुमको हम चाहते हैं इतना, कोई थाह नहीं प्यार की |
फिर भी तुमको नहीं है परवाह, बिलकुल अपने यार की ||
अब तो सूरत दिखा जा अपनी, घड़ियाँ न बढा इंतज़ार की ||

बिन तेरे क्या हालत हुई आके देखले यार की |
सारी घड़ियाँ टूट गई हैं, अब तेरे इंतज़ार की ||
है तमन्ना अब तो मेरी, बस तेरे दीदार की |
अब तो सूरत दिखा जा अपनी, घड़ियाँ न बढा इंतज़ार की ||

नहीं है मुझको अपनी तमन्ना, और नहीं संसार की |
मौत से पहले सूरत मिल जाये, देखने को यार की |
कहीं सांसें मेरी थम न जाये, देखकर घडी इंतज़ार की
अब तो सूरत दिखा जा अपनी, घड़ियाँ न बढा इंतज़ार की ||

Comments are Closed